सब्जियों के 05 सवाल और उसके जवाब

आज से लगभग 30 साल पहले महाराष्ट्र में प्याज की इतनी ज़्यादा फसल हुई कि जितनी जरूरत थी उससे कही ज़्यादा उत्पादन होने से भाव बिल्कुल बैठ गए । नासिक के बाजार में एक किलोग्राम प्याज़ सिर्फ पांच पैसे के भाव से बिके ! फिर से पढ़िए सिर्फ़ पांच पैसे के एक किलोग्राम कांदे यानी प्याज ! सन 1992 में इसी कांदे ने किसानों की आंखों में पानी ला दिया था । इस लेख में कांदे के साथ दूसरी सब्जियों के बारे में भी जानेंगे ।

01 प्याज मूलभूत रूप से कौन से देश की पैदाश है ?

सबसे प्राचीन यानी कृषि से उत्पादित सर्वप्रथम पाक कांदे है । जिसका उद्भव 4000 साल पहले अफ़ग़ानिस्तान , उज़्बेकिस्तान और ताजिकिस्तान के प्रदेशो में हुआ था । भारत से ये स्थान नजदिक है लेकिन कांदे मनोविकार पैदा करते है ऐसे ख्याल से हमारे यहां उसे अखाद्य माना जाता था । चारो वेद में से किसी मे भी उसका उल्लेख नहीं है । सन 629-645 के दौरान भारत की मुलाकात लेने वाले ह्यू एन संग ने लिखा है कि , ” इस देश मे बहुत कम लोग कांदे खाते हैं । जो खाते हुए पकड़े जाते है उन्हें नगर कोट की बाहर धकेल दिया जाता हैं । ” चरक , वाग्भट्ट और सुश्रुत जैसे चिकित्सको ने अपने ग्रंथो में कांदे के आयुर्वेदिक गुणों का वर्णन किया उसके बाद ही धीरे धीरे उसे रोज के खाने में स्थान मिला !

लेटिन भाषा में union शब्द है जिसका अर्थ oneness / एकत्व होता है । यह शब्द अंग्रेजी भाषा मे प्रवेशा उससे पहले लेटिन भाषी रोमन लोगों ने उसके आधार से कांदे के लिए unio नाम अपनाया । क्योंकि उसमे कई परतों का एकत्रीकरण देखने मिला । इंग्लैंड में सदियो तक प्रजा उसकी बदबू के कारण कांदे का चलन बहुत कम रहा । लेकिन सन 1350 के अरसे में Black Death कही जाने वाली प्लेग की बीमारी स्थिति बदल दी । कई लोग मारे गए लेकिन कांदे बेचनेवाले व्यापारी नही मरे । कारण जो भी हो लेकिन बाद में प्याज को आरोग्यप्रद कंद के रूप में स्थान मिला । unio शब्द अपभ्रंश होकर union बना ।

02 टमाटर का ज़हर !

टमाटर दक्षिण अमेरिका के एंडीज़ प्रदेश में पैदा हुए । कोलम्बस के प्रवास से टमाटर उत्तर अमरीका पहुंचे ! लेकिन यूरोप अमरीका के लोग उसे जहरीला मानते थे । एक भोजन समारम्भ में अमरीका के प्रथम प्रमुख ज्योर्ज वॉशिंगटन कच्ची सब्जियों के साथ टमाटर परोसे गए तब उनकी हत्या की शंका जगी । क्योंकि जैसा कि कहा ये टमाटर जहरीला माना जाता था ।

वैसे वनस्पति शास्र के अनुसार टमाटर फल है । जिसका कुल Salanaceae है । जिसमे लगभग 3,000 स्पिसिस है । उसमे से कई पौधे उसमे रहे आलक्लाइड द्रव्यों के कारण जहरीले होते है । लेकिन उसका प्रमाण बहुत ज्यादा नही होते । दर्जन जितने टमाटर खा जाओ तब भी उसका कोई असर नही होता । पकने के बाद उनका मोलूक्यूल्स का ढांचा टूटकर बिना जहर वाले संयोजन में बदल जाता हैं । ये बात साइन्टिफिक रूप से सिद्ध होने के बाद भोजन में टमाटर को महत्व का स्थान मिला !

03 ककड़ी का प्राचीन इतिहास !

खीरा जिसे हम कहते हैं उसे कुछ लोग ककड़ी भी कहते है । संस्कृत में उसे उर्वारु: कहा जाता हैं । आपत्ति , व्याधि और अपमृत्यु से मुक्त होने के लिए प्रार्थना समान महामृत्युंजय मंत्र का भावार्थ है , ” त्र्यम्बक रुद्रदेव का हम पूजन करते हैं । जो जीवन मे सुगंध और पुष्टि का वर्धन करते हैं । ककड़ी पक जाने के बाद बंधन से जैसे अपने आप मुक्त हो जाती है उसी तरह देव हमे मृत्यु रूपी बंधन से मुक्त करे ! तो ककड़ी तब से ककड़ी का महत्व बताया जा रहा है ।

04 आलू का इतिहास

आलू का मूलभूत वतन दक्षिण अमेरिका है । जहां पेरू और बोलिविया देशो के वतनी हजारो सालो से एंडीज़ की ढलानों पर आलू की खेती किया करते थे । स्पेनियार्डों जब पंद्रहवीं सदी के अंत में वहां अपना साम्रज्यवाद फैलाने पहुंचे तब वहां से जमीन के नीचे होने वाले आलू को अपनी भाषा मे patata नाम दिया । जिसे ज्होन जेरार्ड नाम के अंग्रेज लेखक ने सन 1597 में patata शब्द का गलत भाषांतर करके batata शब्द इस्तेमाल किया । सालो तक दोनों नाम समांतर रूप से इस्तेमाल होते रहे । भूल सुधारने के बाद भी batata शब्द मिटा नही , नेधरलेण्ड की डच ईस्ट इंडिया कंपनी के जरिये 17 वी सदी में पहली बार आलू भारत मे आये और भारत मे पोटेटो शब्द का लेबल लगा । इएलिये बाद में कही कही बटाटा शब्द भी चलन में आया ।

05 सबसे ज्यादा शाकाहारी प्रजा !

दुनिया मे सबसे ज्यादा सब्जी खाने वाले लोग भारत के है । वर्ल्डवाइड मार्केट रिसर्च के अनुसार भारत के 82% लोग भोजन में सब्जी लेते हैं । अजब बात है कि शुद्ध वेजिटेरियन लोगो का प्रमाण 25 % से ज्यादा नही ! जिसमे से गुजरात की 69% बस्ती शुद्ध वेजिटेरियन है । इस संस्कृति व सात्विकता बनाये रखने में जैन और स्वामी नारायण जैसे सम्प्रदाय का हिस्सा महत्वपूर्ण है । जैन लोग को 22 तरह के कंद का इस्तेमाल भी वर्ज्य मानते हैं । इतना ही नही जैन में बेक्टरीया वाली दूसरी 34 चीजे भी वर्ज्य मानी जाती है ।


0 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *